johnnyshaker91

Eyes turned skyward

Pink Poem

Poem by Tanveer Ghazi

Translated by Praveen Singhmar

तू खुद की खोज में निकल

तू किसलिए हताश है?

तू चल, तेरे वुजूद की

समय को भी तलाश है

set out to seek thyself

why disheartened art thee?

look, even the mighty time

attempts thy mettle to view

जो तुझसे लिपटी बेड़ियां

समझ न इनको वस्त्र तू

ये बेड़ियां पिघाल के

बना ले इनको शस्त्र तू

mired wires that bind thee

ain’t there to carry thy clothes

melt these wires to thy feet

and into armors have ‘em mould

चरित्र जब पवित्र है

तो क्यूँ है ये दशा तेरी?

ये पापियों को हक़ नहीं

के लें परीक्षा तेरी।

when thy heart is full of light

why allow iniquity around?

the evil hast no right to try

thy body, thy soul or mind

जला के भस्म कर उसे

जो क्रूरता का जाल है

तू आरती की लौ नहीं

तू क्रोध की मशाल है

burn down the shackles

of tyranny to the ground

thou art a ruthless fire

not a tiny lamp mild

चुनर उडा के ध्वज बना

गगन भी कपकपाएगा

अगर तेरी चुनर गिरी

तो एक भूकंप आएगा

flag thy stole free

and watch the sky shiver

in case it falls to ground

the earth shall start to quiver

तू खुद की खोज में निकल

तू किसलिए हताश है?

तू चल, तेरे वुजूद की

समय को भी तलाश है

set out to seek thyself

why disheartened art thee?

look, even the mighty time

attempts thy mettle to view

%d bloggers like this: